घर वापसी

151.00

Author : Farhana Taj

Categories: ,

Description

यह पुस्तक मुस्लिम युवती फरहाना ताज की प्रामाणिक आत्मकथा है। उन्होंने स्वामी दयानंद का अमर ग्रंथ सत्यार्थ प्रकाश पढ़कर और वेदों से प्रभावित होकर वैदिक धर्म अंगीकार किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *